आऊटसोर्स एजेंसी ईगल हंटरस को एमडीयू कुलपति ने सुरक्षा कर्मियों का वेतन तुरन्त जारी करने के दिए निर्देश

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

September 2022
M T W T F S S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930  
September 26, 2022

हर ख़बर पर हमारी पकड़

आऊटसोर्स एजेंसी ईगल हंटरस को एमडीयू कुलपति ने सुरक्षा कर्मियों का वेतन तुरन्त जारी करने के दिए निर्देश

नजफगढ़ मैट्रो न्यूज/अनूप कुमार सैनी/रोहतक/- महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (मदवि) ने आऊटसोर्स एजेंसी ईगल हंटरस को तुरंत प्रभाव से अपने सुरक्षा कर्मियों का वेतन जारी करने के निर्देश जारी किए हैं।  आज आउट सोर्सिंग सुरक्षा कर्मियों के मुद्दे पर मदवि कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने बैठक ली। इस बैठक में रजिस्ट्रार प्रो. गुलशन तनेजा, डीन, स्टूडेंट वेल्फेयर प्रो. राजकुमार, प्रॉक्टर प्रो. एस.सी. मलिक, चीफ वार्डन बॉयज प्रो. रणदीप राणा, चीफ वार्डन गर्लज प्रो. संजू नंदा, एनएसएस समन्वयक प्रो. रणबीर सिंह गुलिया, वित्त अधिकारी मुकेश भट्ट, निदेशक यूनिवर्सिटी कंप्यूटर सेंटर डा. जीपी सरोहा, एनसीसी प्रभारी विकास सिन्धु, सुरक्षा नियंत्रक तरूण शर्मा, गैर शिक्षक कर्मचारी संघ प्रधान कुलवंत मलिक शामिल हुए। ईगल हंटरस की ओर से वाइस प्रेसीडेंट विवेक सूद तथा महाप्रबंधक प्रोजेक्ट्स सुनील खटाना शामिल हुए। कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने सुरक्षा एजेंसी के प्रतिनिधियों को वेतन तथा पुराने एरियर जारी करने के स्पष्ट आदेश दिए। ईगल हंटरस के प्रतिनिधियों ने बैठक में बताया कि दिसंबर माह का वेतन जारी कर दिया गया है।        इस बैठक में यह निर्णय लिया गया कि प्रतिमाह दो तारीख तक सुरक्षा एजेंसी वेतन बिल एमडीयू सुरक्षा कार्यालय में जमा करवाएंगे। एमडीयू सुरक्षा कार्यालय 6 तारीख तक वेतनमान हेतु हाजिरी की जांच करेगा। 10 तारीख तक लेखा शाखा की ओर से वेतन बिल पर भुगतान कर दिया जाएगा।        विश्वविद्यालय प्रशासन ने सुरक्षा एजेंसी को एरियर बिल भी विश्वविद्यालय लेखा कार्यालय में जमा कराने के निर्देश दिए। इस संदर्भ में फरवरी माह तक एरियर बिल क्लीयर करने का दिशा-निर्देश सुरक्षा एजेंसी को दिया गया।          कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने स्पष्ट शब्दों में सुरक्षा एजेंसी को सुरक्षा व्यवस्था चुस्त-दुरूस्त करने की हिदायत दी। साथ ही सुरक्षा कर्मियों के वेतन तथा अन्य संबंधित मामलों को गंभीरता से लेने की बात कही।

Subscribe to get news in your inbox