विकास दुबे की मौत के साथ दफन हो गये कई सफेदपोशों के राज!

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

December 2022
M T W T F S S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  
December 7, 2022

हर ख़बर पर हमारी पकड़

विकास दुबे की मौत के साथ दफन हो गये कई सफेदपोशों के राज!

Police officers cordon the site where top criminal Vikas Dubey was killed near Kanpur, India, Friday, July 10, 2020. The top suspect in dozens of crimes, including the killings of eight police officers last week, was fatally shot Friday in police custody while allegedly trying to flee, officials said. Dubey, in his 40s, had given himself up in the central town of Ujjain on Thursday after a weeklong search. A report last month by a New Delhi rights group, the National Campaign Against Torture, said at least 1,731 people died in custody during 2019, which means five custodial deaths a day. (AP Photo)

नजफगढ़ मैट्रो न्यूज/द्वारका/नई दिल्ली/शिव कुमार यादव/भावना शर्मा/- उज्जैन से कानपुर लाते वक्त विकास दुबे का एनकाउंटर हुआ है. उसे स्ट्रेचर पर लाला लाजपत राय हॉस्पिटल में लाया गया है। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। विकास दुबे के पकड़े जाने से कई बड़े नामों का खुलासा हो सकता था क्योंकि विकास के संबंध राजनेताओं और पुलिस के लोगों से काफी घनिष्ठ थे। लेकिन मुठभेड़ में उसके मारे जाने से अब उसके साथ ही कई सफेदपोशों के राज भी दफन हो गये है। हालांकि कानपुर कांड से लेकर उसके सियासी लिंक और पुलिस से नेक्सस पर भी खुलासे हो सकते थे. लेकिन अब ये मुश्किल होगा।
यहां बता दें कि विकास दुबे 25 साल से प्रदेश के प्रमुख राजनीतिक दलों के साथ रहा था। 15 साल बसपा के, 5 साल बीजेपी के साथ और 5 साल सपा के साथ रहा और अपने आपराधिक वर्चस्व को बढ़ाता रहा। पंचायत चुनाव के दौरान उसे बसपा से समर्थन मिला, जबकि उसकी पत्नी को सपा का समर्थन मिला था।

About Post Author

Subscribe to get news in your inbox