58 उम्मीदवारों का भाग्य हुए मतदान के बाद ईवीएम में कैद

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

October 2022
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
October 1, 2022

हर ख़बर पर हमारी पकड़

58 उम्मीदवारों का भाग्य हुए मतदान के बाद ईवीएम में कैद

मतदान करते हुए मतदाता


नजफगढ़ मैट्रो न्यूज/झज्जर/- 7 बजे से सायंकाल 6 बजे तक विधानसभा चुनाव के लिए मतदान की प्रक्रिया कभी सामान्य तो कभी मंद गति के साथ निरंतर जारी रही। बहादुरगढ़ में झगड़ा हुआ, जिसमें कांग्रेस समर्थक पूर्व चेयरमैन को हल्की चोटें आई हैं। झज्जर जिले के चारों विधानसभा क्षेत्रों के 58 उम्मीदवारों का भाग्य 802 मतदान केन्द्रों पर हुए मतदान के बाद ईवीएम में कैद हो गया है। जिसके कारण अब 24 अक्तूबर को ईवीएम परिणाम उगलेंगी। औसत मतदान करीब 65 रहा है। झज्जर जिले के 731512 मतदाताओं द्वारा मतदाताओं के भागय का फैसला किया जाना था। चुनाव को शांतिपूर्वक ढंग से सम्पन्न कराने के लिए प्रशासन द्वारा 3848 पोलिंग स्टाफ लगाया गया और सुरक्षा के लिहाज से जिला पुलिस के जवानों व अधिकारियों के अलावा पंजाब पुलिस व अर्द्धसैनिक बल के सैनिक जवानों को भी मतदान केन्द्रों पर तैनात किया गया था। जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त संजय जून व प्रवर पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार के अलावा चुनाव आयोग द्वारा यहां लगाए गए पर्यवेक्षकों द्वारा उम्मीदवारों की गतिविधियों व मतदान की तमाम प्रक्रिया पर भी कड़ी नजर रखी गई। इसके अलावा प्रशासन द्वारा चारों विधानसभा क्षेत्रों को विभिन्न सैक्टरों में बांटते हुए 91 माईक्रो आबजर्वर, 33 सैक्टर मजिस्ट्रेट व 61 सैक्टर सुपरवाईजर भी लगाए गए थे। इस बार के चुनाव में मतदाताओं व उनके समर्थकों में खास उत्साह व जोश देखने को नहीं मिला। शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में हार-जीत की तस्वीर किसी भी दल के प्रति खास उभरकर सामने नहीं आई और ऐसे में यह भी तय है कि किसी दल का कोई प्रत्याशी डंके की चोट पर अपनी जीत का दावा करने की स्थिति में नहीं है। हालांकि झज्जर, बेरी में जो आंकड़े सामने आ रहे हैं उसमें भाजपा का पलड़ा कुछ झुकता हुआ नजर आ रहा है और चुनाव बहुत हद तक इस बार विकास के मुद्दों के अलावा जातीय समीकरणों के इर्द-गिर्द घूमता रहा। छुटपुट नोकझोंक की घटनाएं कुछ स्थानों पर अवश्य हुई हैं जबकि ईवीएम में तकनीकी खराबी की भी कोई खास शिकायतें इस बार नहीं मिली। चुनाव शांतिप्रिय माहौल में सम्पन्न होने से पुलिस व प्रशासन ने राहत की सांस ली है। हालांकि संवेदनशील बूथों पर झगड़े व बूथ कैपचरिंग की आशंका को देखते हुए पंजाब पुलिस व अर्द्धसैनिक बल के जवानों को विशेष रूप से तैनात किया गया था। झज्जर विधानसभा क्षेत्र के जमालपुर बूथ पर एक युवक द्वारा महिलाओं के वोट डाले जाने की शिकायत मिली वहीं साल्हावास में भी कुछ महिला मतदाताओं की वोट अन्य महिला द्वारा डाल दी गई। पुलिस द्वारा भी कुछ स्थानों पर हस्तक्षेप किए जाने की शिकायतें मिली हैं जो चुनाव आयोग को भाजपा प्रत्याशी की ओर से की गई हैं।

Subscribe to get news in your inbox