डिजिटल पेमेंट्स के मामले में दिल्ली दूसरे स्थान पर: रेजरपे की “द एरा ऑफ राइजिंग फिनटेक” रिपोर्ट

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

February 2024
M T W T F S S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
26272829  
February 24, 2024

हर ख़बर पर हमारी पकड़

डिजिटल पेमेंट्स के मामले में दिल्ली दूसरे स्थान पर: रेजरपे की “द एरा ऑफ राइजिंग फिनटेक” रिपोर्ट

नजफगढ़ मैट्रो न्यूज /दिल्ली/- फुल-स्टैक फाइनेंशियल कंपनी, रेजरपे ने आज दिल्ली में ‘द एरा ऑफ राइजिंग फिनटेक’ रिपोर्ट का चैथा संस्करण लॉन्च किया। यह रिपोर्ट भारत में तेजी से विकसित हो रहे फिनटेक इकोसिस्टम का गहन अध्ययन प्रदान करती है। रिपोर्ट डिजिटल लेनदेन के पैटर्न और यूपीआई जैसे उद्योग नवाचारों के प्रभाव का विश्लेषण करती है जो इस डिजिटल समावेशी अर्थव्यवस्था का उपयोग कर रहे हैं।

दिल्ली एनसीआर के डिजिटल भुगतान को अपनाने के बारे में कुछ दिलचस्प जानकारियां यहां दी गई हैंः इस रिपोर्ट के सभी निष्कर्ष जनवरी 2018 से दिसंबर 2019 तक रेजरपे प्लेटफार्म पर हुए लेनदेन पर आधारित हैं।

  • दिल्ली (2018-2019)
  • दिल्ली एनसीआर में ऑनलाइन भुगतान 2018 (जनवरी-दिसंबर) से 2019 (जनवरी-दिसंबर) तक 235 फीसदी बढ़ा
  • दिल्ली एनसीआर 2019 में तीसरा सबसे अधिक डिजिटाइज्ड प्रदेश था, 2019 में 13.05 फीसदी योगदान दिया (2018 में 10.9 की तुलना में )
  • 2019 में पी2एम सेगमेंट में 64 फीसदी की अनुमानित हिस्सेदारी के साथ क्रेडिट और डेबिट कार्ड का योगदान सबसे अधिक था, इसके बाद यूपीआई (20 फीसदी) और नेटबैंकिंग (15 फीसदी) (2018ः कार्डः 62 फीसदी, नेटबैंकिंगः 22 फीसदी और यूपीआई 12 फीसदी)
  • यूपीआई ने 2019 में 442 फीसदी की वृद्धि के साथ ऑनलाइन भुगतान में बड़ा हिस्सा लेना शुरू कर दिया
  • गूगल पे 2019 में 50 फीसदी मार्केट शेयर के साथ सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला यूपीआई ऐप रहा, इसके बाद फोनपे (25 फीसदी ), बीएचआईएम (12 फीसदी ) और पेटीएम (9 फीसदी ) का नंबर रहा। (2018 में:गूगल पे – 39 फीसदी, बीएचआईएम- 34 फीसदी, फोनपे-14 फीसदी और पेटीएम- 6 फीसदी था)
  • 2018 में 5 फीसदी के योगदान के साथ, वित्तीय सेवा क्षेत्र 2019 में दोगुने (12 फीसदी) से अधिक, दिल्ली में शीर्ष तीन उद्योगों में से एक के रूप में उभर रहा है। 2019 में अन्य दो शीर्ष क्षेत्र खाद्य और पेय (15 फीसदी) और परिवहन (14 फीसदी) थे। (2018ः खाद्य और पेय – 25 फीसदी, पर्यटन और यात्रा – 23 फीसदी और यूटिलिटी- 12 फीसदी थे)
  • दिलचस्प बात यह है कि पिछले डेढ़ साल में, बीमा और म्यूचुअल फंड जैसे पारंपरिक क्षेत्र भी भुगतान स्वीकृति के लिए ऑनलाइन तरीकों को अपना रहे हैं। 2019 में, वित्तीय सेवा क्षेत्र में 12 फीसदी की वृद्धि हुई, 80 फीसदी हिस्सा ऑनलाइन क्रेडिट से, 14 फीसदी बीमा से और 5 फीसदी म्यूचुअल फंड से आया। (2018ः क्रेडिट – 66 फीसदी, बीमा – 16 फीसदी और म्यूचुअल फंड – 13 फीसदी)
  • यूपीआई नेटबैंकिंग और वॉलेट्स जैसे भुगतान मोड पर हावी रहा है। नेटबैंकिंग का योगदान 2018 में 22 फीसदी से घटकर 2019 में 15 फीसदी और 2018 में वॉलेट 3 फीसदी से 2 फीसदी हो गया। 2019 में दिल्ली में सबसे पसंदीदा वाॅलेट ओला मनी (27 फीसदी), अमेजन पे (25 फीसदी), मोबिक्विक (12 फीसदी) थे। (2018ः फ्रीचार्ज – 39 फीसदी, ओला मनी – 22 फीसदी और मोबिक्विक – 18 फीसदी)
    • भारत (2018-2019)
  • 2018 (जनवरी-दिसंबर) से 2019 (जनवरी-दिसंबर) तक डिजिटल लेनदेन में 338 फीसदी की वृद्धि हुई और इसने स्थिर विकास दर को 30 फीसदी तक बनाए रखा
  • 2019 (शीर्ष शहरों) में, बेंगलुरू सबसे अधिक डिजिटलीकृत शहर (23.31 फीसदी) था, जबकि दिल्ली दूसरे पायदान पर आ गई (10.44 फीसदी ), इसके बाद हैदराबाद (7.61 फीसदी) था। (2018ः बेंगलुरू 29.26 फीसदी, हैदराबाद 9.02 फीसदी और दिल्ली 8.36 फीसदी पर था)
  • 2019 (शीर्ष राज्यों) में, कर्नाटक में डिजिटल भुगतान (26.64 फीसदी) को सबसे अधिक अपनाया गया, इसके बाद महाराष्ट्र (15.92 फीसदी ) और दिल्ली एनसीआर (13.09 फीसदी) का स्थान रहा।
  • कार्ड के उपयोग (46 फीसदी) और नेटबैंकिंग (11 फीसदी) में 2019 में गिरावट देखी गई, कार्डों का उपयोग 56 फीसदी से 23 फीसदी तक नीचे आ गया, इसी तरह 2018 में नेटबैंकिंग 38 फीसदी थी जो कि 2019 में 17 फीसदी हो गई।
  • अमेजन पे उपभोक्ताओं (33 फीसदी) के साथ सबसे पसंदीदा वाॅलेट था, इसके बाद 2019 में ओला मनी (17 फीसदी) का नाम रहा।
  • 2019 के लिए डिजिटल भुगतान अपनाने में शीर्ष 3 क्षेत्र खाद्य और पेय (26 फीसदी), वित्तीय सेवा (12.5 फीसदी) और परिवहन (8 फीसदी) थे। (2018ः खाद्य और पेय – 34 फीसदी, पर्यटन और यात्रा – 19 फीसदी, यूटिलिटी- 9 फीसदी थे)
  • 2019 में यूपीआई में गूगल पे ने 59 फीसदी का योगदान दिया, फोन पे ने 26 फीसदी का योगदान दिया, इसके बाद पेटीएम (7 फीसदी) और बीएचआईएम (6 फीसदी) ने डिजिटल लेनदेन में योगदान दिया। (2018ः गूगल पे – 48 फीसदी, बीएचआईएम- 27 फीसदी, फोनपे – 15 फीसदी, पेटीएम – 4 फीसदी रहे)

रेजरपे के सीईओ और को-फाउंडर श्री हर्षिल माथुर ने कहा, ‘पिछले साल दिल्ली में फिनटेक क्षेत्र के लिए काफी जोर रहा, नए डिजिटल भुगतान मोड को अपनाने के साथ, डिजिटल मुद्रा को मुख्यधारा में लाया गया है। और पिछले छह महीनों में क्षेत्र में डिजिटल भुगतान के व्यवसायों और उपभोक्ता वरीयताओं के उपभोग पैटर्न में जबरदस्त बदलाव देखा गया। यूपीआई के दिल्ली में 442 फीसदी की वृद्धि के साथ, मुझे यकीन है कि यह भुगतान विधि अगले 12 महीनों में कम से कम 20 फीसदी से आगे निकल जाएगी।’

सीईओ और को-फाउंडर
श्री हर्षिल माथुर


उन्होंने कहा, ‘भारत में उपभोक्ताओं के वित्तीय समावेशन पर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित किया गया है, दिल्ली एक ऐसा क्षेत्र है जो व्यवसायों के लिए वित्तीय समावेशन के समाधान की दिशा में सक्रिय रूप से शामिल है। फिनटेक स्पेस ने तेजी ने दिल्ली में 350 से अधिक स्टार्टअप्स के एक समुदाय को जन्म दिया है, विशेष रूप से इसने क्रेडिट सेगमेंट में जटिलताओं को दूर करने के लिए बुद्धिमान समाधान का निर्माण करते हुए, एसएमई और एमएसएमई जैसे अंडरग्राउंड बाजारों के लिए कार्यशील पूंजी ऋण प्रदान की है। ’उन्होंने कहा, ‘दिल्ली में फिनटेक की वृद्धि इस साल तीन गुना से अधिक होने की उम्मीद है, और यह देखते हुए कि दिल्ली कैसे एक सहयोगी पारिस्थितिकी तंत्र का प्रदर्शन कर रही है, बैंकों और फिनटेक फर्मों के बीच साझेदारी के माध्यम से नई संभावनाओं की खोज कर रही है, हमें विश्वास है कि यह एक वास्तविक और रोमांचक सफर होगा।’

पिछले छह महीनों में, रेजरपे भुगतान और बैंकिंग में अपने क्षितिज का विस्तार कर रही है और भारतीय अर्थव्यवस्था को बाधित करने के इच्छुक महत्वाकांक्षी व्यवसायों के लिए नई चुनौतियों का समाधान कर रहा है। अपनी नियोबैंकिंग रणनीति के अनुरूप, रेजरपे ने डेबिट कार्ड, कैश ट्रांसफर, एफडी, आरडी और अन्य ट्रेजरी ऑफर, और कॉर्पोरेट क्रेडिट कार्ड जैसी मानक बैंकिंग सुविधाओं का समर्थन करने के लिए करंट अकाउंट्स लॉन्च किए, ताकि क्रेडिट, शॉर्ट टर्म क्रेडिट, रिक्लेमेशन, खर्च के आसपास की चुनौतियों को हल किया जा सके, जिससे व्यवसायों को एक स्वस्थ वित्तीय जीवन जीने में मदद मिलती है। कंपनी ने व्यवसाय की संपूर्ण पेरोल प्रक्रिया के निर्बाध स्वचालन के लिए ओपफिन, एक पेरोल और एचआर मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर कंपनी का भी अधिग्रहण किया। 2019 में 500 फीसदी की वृद्धि के साथ, रेजरपे अगले वित्तीय वर्ष के अंत तक अपने संस्करणों में 4 गुना वृद्धि की उम्मीद करता है।

रेजरपे सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के बारे मेंः प्रमुख फुल-स्टैक वित्तीय सेवा कंपनी, रेजरपे, किसी भी व्यवसाय में भुगतान के समूचे सफर को व्यापक और अभिनव तकनीकी समाधानों के साथ पेश करते हुए भारतीय व्यवसायों की मदद करती है। 2014 में स्थापित, कंपनी 800,000 से अधिक व्यवसायों को प्रौद्योगिकी भुगतान समाधान प्रदान करती है। आईआईटी रुड़की के पूर्व छात्रों शशांक कुमार और हर्षिल माथुर द्वारा स्थापित, रोजरपे सिलिकॉन वैली के सबसे बड़े टेक एक्सीलेटर, वाई कॉम्बिनेटर का हिस्सा बनने वाली दूसरी भारतीय कंपनी है। टाइगर ग्लोबल, मैट्रिक्स पार्टनर्स, वाई कॉम्बीनेटर, सिकोइया इंडिया, रिबबिट कैपिटल और मास्टरकार्ड जैसे मार्की निवेशकों ने सीरीज ए, बी और सी फंडिंग के माध्यम से कुल $ 106.5 मिलियन का निवेश किया है। भुगतान को आसान बनाने के लिए लगभग 33 एंजेल निवेशकों ने रेजरपे के मिशन में निवेश किया है। एक डेवलपर उन्मुख भुगतान गेटवे के रूप में जाना जाता रेजरपे चैबीसों घंटें-सातों दिन समर्थन, सिंगल-लाइन इंटीग्रेशन कोड और बेहतर चेकआउट अनुभवों पर केंद्रित है।

About Post Author

Subscribe to get news in your inbox