कार्यकुशलता के दम पर बाबा हरिदास नगर बना दिल्ली का नंबर वन थाना

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

October 2022
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
October 1, 2022

हर ख़बर पर हमारी पकड़

कार्यकुशलता के दम पर बाबा हरिदास नगर बना दिल्ली का नंबर वन थाना

पूरे देश में 6वें नंबर पर रहा बाबा हरिदास नगर थाना

नजफगढ़ मैट्रो न्यूज/नजफगढ़/शिव कुमार यादव/- स्टाफ की कमी व पोर्टा केबिन में चलने वाला बाबा हरिदास नगर थाना अधिकारियों की दृढ़ इच्छाशक्ति व स्टाफ की कार्य कुशलता के चलते दिल्ली का नंबर वन थाना बन गया है। इतना ही नही थाने में लोगों की मदद के लिए हैल्प डेस्क व स्टाफ का सहयोग भी पुलिस के लिए नजीर बन रहा है। द्वारका जिला पुलिस के अंतर्गत आने वाले बाबा हरिदास नगर थाने को गृहमंत्रालय की ओर से जारी बेस्ट थानों की सूची में पूरे देश में 6वां स्थान मिला है। हालांकि बाबा हरिदास नगर थाना के एसएचओ छोटूराम मीणा इस सम्मान का श्रेय डीसीपी व एसीपी के मार्गदर्शन को दे रहे है। लेकिन यह पहला मौका नही है जब एसएचओ मीणा को इस तरह का सम्मान मिला हो। इससे पहले भी सीमापुरी थाने में उन्हे बेस्ट एसएचओ का सम्मान मिल चुका है।

थाने में लोगों की मदद के लिए हैल्प डेस्क

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने देश में पुलिस की छवि जांचने के लिए सभी थानो का एक सर्वें कराया था। जिसमें शुरूआती रूप में 15, 796 शामिल किये गये थे। फिर दूसरी जांच में कुल 79 थाने बचे। लेकिन जब अंतिम 10 थानों का चयन हुआ तो उसमें बाबा हरिदास नगर थाना 6वें नंबर पर रहा। हालांकि पूरी दिल्ली में कुल 194 थाने है जिनमें से कुछ माॅडल थाने भी है फिर भी इस थाने की रैंकिंग और भी बेहतर रह सकती थी लेकिन थाने का अपना भवन न होने से नंबर कट गये। बाबा हरिदास नगर थाने का इलाका 45 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। इस थाने के अंतर्गत मित्राऊं, दिचाऊं व झाड़ौदा गांव अति संवेदनशील क्षेत्र में आते है जिनमें अधिकतर वारदाते गैंगवार को लेकर ही होती हैं। फिर भी इस थाने की पुलिस ने इन गांवों में कानून व्यवस्था व शांति बनाये रखने में अपनी अहम भूमिका निभाई है। जिसकारण पिछले एक साल से यहां कोई गैंगवार की वारदात नही हुई है। हरियाणा बार्डर के साथ थाने के झाड़ौदा व नीलवाल की सीमा लगती है। जहां सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जाती है। सीमित संसाधनों के बेहतर उपयोग व अधिकारियों की दृढ़ इच्छा शक्ति व स्टाफ की कार्यकुशलता के चलते इस वर्ष थाने में दर्ज हुए 99 प्रतिशत जघन्य वारदातों को पुलिस ने सुलझाने में सफलता पाई है। जिसके चलते वर्ष 2018 के मुकाबले इस साल अपराध में भी कमी आई है।

बाबा हरिदास नगर थाना एसएचओ सी आर मीणा

इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि थाने के एसएचओ छोटूराम मीणा का हर समय थाने में हाजिर रहना भी माना जा रहा है। यहां यह बता दें कि श्री मीणा का दिल्ली में अपना कोई मकान नही है और न ही उनका परिवार यहां रहता है। वह जिस भी थाने मे जाते है तो वहीं रहते हैं और अपना पूरा समय स्टाफ की कार्यवाही की देखरेख व लोगों की मदद में लगाते है। साथ ही समय-समय पर पुलिस-पब्लिक बैठक कर लोगों को पुलिस की कार्यप्रणाली के बारे में बताते रहे हैं। जिससे न केवल अपराधियों में पुलिस का खौफ बढ़ा बल्कि लोगों में भी पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ा है। बाबा हरिदास नगर थाने में इस साल 1100 शिकायते आॅनलाईन आई थी। थाने में 4 केस जीरो एफआईआर के दर्ज हुए है। वहीं रेप के मामले के 13 केस दर्ज हुए है जिसमें से सभी सुलझ गये हैं। थाने में 218 कर्मचारियों के स्टाफ की मंजूरी है लेकिन सिर्फ 114 का स्टाफ ही थाने को मिला है। इसमें भी 28 पुलिस वाले पीएसओ के रूप में लोगों की सुरक्षा में लगे हुए हैं। क्षेत्र में कुल 111 बीसी है। इसमें 25 के करीब बीसी अपराधों में सक्रीय हैं जबकि 39 बीसी जेल में है। वहीं इस साल 12 नये बीसी बनाये गये है और 4 बीसी को उनके साफ चाल चलन को देखते हुए उन पर से बीसी की धारा हटाने का काम चल रहा है। वैसे तकनीक के मामले में थाने में व थाने की सीमाओं में सभी आधुनिक उपकरण लगे है। जिनके जरीये एसीपी व डीसीपी थाने की हर गतिविधी पर नजर रखते हैं। थाने में साफ-सफाई, पीने के पानी उचित व्यवस्था के साथ-साथ सतर्क पुलिस स्टाफ व उनका मार्ग निर्देंशन करने वाले अधिकारियों के दम पर ही थाने ने अपने उपयोगिता साबित की है। नजफगढ़ एसीपी विजय सिंह यादव व एसएचओ सी आर मीणा को क्षेत्र के लोग दिल खोलकर बधाई दे रहे है और थाने मे जाकर उनका फूलमालाये पहनाकर स्वागत भी कर रहे हैं।

नजफगढ़ सब डिविजन के एसीपी विजय सिंह यादव

वर्जन:-

नजफगढ़ सब डिविजन के एसीपी विजय सिंह यादव ने बताया कि क्षेत्र में क्राईम कंट्रोल, कार्यप्रणाली में दक्षता व अपराधियों पर नजर रखने के कार्य ने थाने को दिल्ली में पहले स्थान पर ला दिया है। उन्होने कहा कि वरिष्ठ अधिकारियों का मार्गनिर्देशन, एसएचओं की दृढ़ इच्छाशक्ति व कर्मचारियों की कार्यकुशलता के चलते इस थाने को यह सम्मान मिला है इसमें आम आदमी के सहयोग व पुलिस पर विश्वास का भी बड़ा योगदान है। एसएचओ सी आर मीणा ने इस सम्मान के लिए एसीपी व डीसीपी के मार्ग निर्देशन को श्रेय दिया है।

Subscribe to get news in your inbox