हरियाणा में जलभराव पर एक्शन में उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, आला अधिकारियों को मौके पर बुलाया

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

August 2022
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
August 14, 2022

हर ख़बर पर हमारी पकड़

हरियाणा में जलभराव पर एक्शन में उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, आला अधिकारियों को मौके पर बुलाया

-जनता के बीच बैठकर कर रहे ऑन स्पॉट फैसले, दर्जनों गांवों में भरे पानी की निकासी के लिए अफसरों को दिए “सख्त“ निर्देश

जींद/भिवानी/हिसार/- हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला किसानों की तकलीफो को समझते हुए एक्शन में आ गये है। उपमुख्यमंत्री ने अचानक जींद, भिवानी, हिसार व सिरसा जिलो का दौरा कर जलभराव तुरंत एक्शन लेने के निर्देश दिये। श्री दुष्यंत चौटाला ने न केवल मौके पर जनता के बीच बैठकर आनॅ स्पॉट फैसले लिये बल्कि चंडीगढ़ के आला अधिकारियों को भी मौके पर बुलाकर जलभराव से निपटने के लिए सख्त निर्देश दिये।
 जनता से जुड़े मुद्दों पर “ऑन स्पॉट“ फैसले लेकर दुष्यंत चौटाला “इफेक्टिव“ वर्किंग को अमलीजामा पहना रहे हैं।
                बता दें कि 1 अगस्त को दुष्यंत चौटाला सुबह 7 बजे से लेकर रात को 11 बजे तक लगातार जनता और अफसरों के बीच में रहे।
पहले उन्होंने कई घंटों तक जनता की समस्याओं को सुनकर अधिकारियों को सभी शिकायतों पर गंभीरता से अति शीघ्र कार्रवाई करने के निर्देश दिए। दुष्यंत चौटाला ने अफसरों को “सख्त“ लहजे में साफ-साफ कहा कि जनता की परेशानियों को दूर करने में किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।  उसके बाद दुष्यंत चौटाला ने जींद, हिसार और भिवानी जिलों के दर्जनों गांवों में बरसाती पानी के भराव के कारण उपजी गंभीर समस्या कघ तरफ “फोकस“ किया। दुष्यंत चौटाला ने जलभराव के क्षेत्रों का दौरा करते हुए अफसरों को पानी निकासी का काम शुरू करने के लिए 24 घंटे का अल्टीमेटम दे दिया। उन्होंने कहा कि जहां जहां पंपों और पाइपों की जरूरत है वहां तुरंत उनकी खरीद की जाए और कार्य किसी भी सूरत में लेट नहीं होना चाहिए।
                दुष्यंत चौटाला ने रात को 10 बजे भिवानी और हिसार जिलों के सभी बड़े अफसरों को बुलाकर पानी निकासी के संभावित विकल्पों पर गहन विचार विमर्श किया। इलाके के नक्शे के साथ पानी की निकासी विकल्पों पर दुष्यंत चौटाला ने अफसरों के साथ गहन चर्चा की। उन्होंने साफ-साफ कहा कि पानी निकासी के मामले में किसी तरह की कोताही नहीं होनी चाहिए।
                इसके बाद आज सुबह 9 बजे चंडीगढ़ से सिंचाई विभाग के चीफ इंजीनियर को बुलाकर बाकी विभागों के अफसरों के साथ फिर से दुष्यंत चौटाला पानी निकासी के मुद्दे पर जम गए। उन्होंने पूरे प्रदेश के ज्योग्राफीकल मैप पर पूरे प्रदेश के जलभराव के क्षेत्रों की जानकारी हासिल की। उन्होंने जमीन के प्राकृतिक ढलान के अनुसार अफसरों से पानी की निकासी का परमानेंट समाधान निकालने के आदेश दिए।  उन्होंने कहा कि सैकड़ों गांव में जलभराव के कारण हर साल किसानों की फसलें खराब हो रही हैं। इस गंभीर समस्या के खात्मे के लिए मास्टर प्लान बनाया जाना चाहिए। दुष्यंत चौटाला ने अफसरों को निर्देश दिए कि सभी जगह 1 हफ्ते के अंदर पानी निकासी हो जानी चाहिए।
                 बता दें कि श्री दुष्यंत चौटाला की तो उपमुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार इस तरह के एक्शन मोड में दिखे हैं। उनकी नई वर्किंग बता रही है कि उन्होंने अपने वर्किंग के “फार्मूले“ को बदल दिया है। अब वह पूरी स्पीड के साथ जनता से जुड़ी समस्याओं पर फोकस कर रहे हैं और अफसरों से भी पूरा तालमेल बैठा रहे है। उन्होने अपने अपने नये एक्शन में अफसरों की लापरवाही व अनदेखी की कोई गुंजाइश नही रखी है।  दुष्यंत चौटाला के इस बदले हुए स्वरूप ने जहां अफसरों को “सकते“ में डाल दिया है वहीं दूसरी तरफ जनता में उनके इस नए वर्किंग स्टाइल को “भरपूर“ समर्थन मिलने के आसार दिख रहे हैं।

Subscribe to get news in your inbox