राजधानी में 500 नई इलेक्ट्रिक बसें चलाई गई

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

July 2024
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
July 22, 2024

हर ख़बर पर हमारी पकड़

राजधानी में 500 नई इलेक्ट्रिक बसें चलाई गई

मानसी शर्मा / –  एलजी वीके सक्सेना और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को एक साथ इंद्रप्रस्थ डिपो से 500 इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इससे राष्ट्रीय राजधानी में अब इलेक्ट्रिक बसों की संख्या 1,300 हो गई। जनवरी 2022 से अभी तक 800 इलेक्ट्रिक बसें चल रही थीं। दिल्ली सरकार ने दावा किया है कि राजधानी की सड़कों पर चलने वाली इलेक्ट्रिक बसों की संख्या अब देश में सबसे ज्यादा हो गई है। दिल्ली में 2025 तक 10 हजार से ज्यादा बसें हो जाएंगी, इनमें 80 प्रतिशत यानी करीब 8000 बसें इलेक्ट्रिक होंगी।

एलजी ने कहा कि हमने 500 इलेक्ट्रिक बसें उतारी हैं। ये शून्यउत्सर्जन वाली बसें हैं। दिल्ली को बेहतर बनाने के लिए ऐसे काम करना जारी रखेंगे। सीएम केजरीवाल ने एलजी को धन्यवाद दिया और शहरी परिवहन में सुधार जारी रखने का वादा किया। एलजी व सीएम ने नई इलेक्ट्रिक बसों में उपलब्ध सुविधाओं का जायजा भी लिया। इस मौके पर परिवहन आयुक्त आशीष कुंद्रा समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

बाद में सचिवालय में प्रेसवार्ता में परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि प्रदूषण के खिलाफ लड़ाई में बसों को शामिल करना एक मजबूत कदम है। एक सीएनजी बस प्रति किमी 800 ग्राम कार्बन डाइआक्साइड उत्सर्जित करती है, जबकि एक इलेक्ट्रिक बस इतनी ही मात्रा में इसे वातावरण में जाने से बचाती है। पहले से चल रहीं 800 ई-बसों ने 42 मिलियन किमी से अधिक की दूरी तय की है और 34 हजार टन से अधिक कार्बन घटा है। 2025 तक दिल्ली में कुल 10,480 बसें होंगी, जिनमें बेड़े का 80 प्रतिशत हिस्सा इलेक्ट्रिक बसें होंगी। नई बसें वातानुकूलित, आरामदायक और सीसीटीवी कैमरे और पैनिक बटन से लैस हैं। पैनिक बटन दबाते ही कमांड और कंट्रोल सेंटर में लाइव फीड शुरू हो जाएगी। फीड दिल्ली पुलिस तक भी पहुंचेगी।

गहलोत ने कहा कि हमारी सरकार का लक्ष्य है कि 2025 तक पूरे बस बेड़े को इलेक्ट्रिक बसों में बदलना है। हमारा लक्ष्य है कि 2025 के अंत तक इलेक्ट्रिक बसों की संख्या बढ़ाकर आठ हजार के पार ले जाना है। ऐसा होने पर दिल्ली दुनिया के उन चुनिंदा शहरों में शामिल हो जाएगा, जहां सबसे अधिक इलेक्ट्रिक बसें चल रही हैं। उन्होंने बताया कि आठ हजार ई-बसों में से छह हजार ई-बसों का वर्क आर्डर जारी कर चुके हैं। अब लगभग हर महीने 50 से ‘लेकर 100 ई-बसें बेड़े में शामिल करते जाएंगे। गहलोत ने बताया कि दिल्ली में स्थित सभी डिपो का विद्युतीकरण किया जा रहा है। दिल्ली में हमारे 60 से अधिक बस डिपो हैं। इन सब में विद्युतीकरण का बड़े स्तर पर काम चल रहा है। ये 500 ई-बसें रोहिणी, हसनपुर 160, वजीरपुर में 130, सुभाष प्लेस और बीबीएम डिपो में भी बसों को शामिल किया जाएगा।

About Post Author

Subscribe to get news in your inbox