यूपी में 9 देवियों के सहारे आधी आबादी, भाजपा ने महिला चुनाव की कमान 9 देवियों को सौंपी

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

August 2022
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
August 19, 2022

हर ख़बर पर हमारी पकड़

यूपी में 9 देवियों के सहारे आधी आबादी, भाजपा ने महिला चुनाव की कमान 9 देवियों को सौंपी

-यूपी में कानून व्यवस्था व महिला सुरक्षा बड़ा मुद्दा, इस बार भी चुनाव में पार्टियों का एजेंडा, भाजपा कर रही इस पर काम

नजफगढ़ मैट्रो न्यूज/उत्तर-प्रदेश/भावना शर्मा/- उत्तर-प्रदेश में कानून व्यवस्था व महिला सुरक्षा हमेशा से ही बड़ा मुद्दा रहा है। इस बार के चुनाव में भी सभी राजनीतिक पार्टियों के ऐजेंडें में ये दोनो मुद्दे छाये हुए हैं। हालांकि इस बार लगभग सभी पार्टियों महिलाओं को लेकर काफी संजीदा मानी जा रही है और चुनावों में आधी आबादी को काफी महत्व दिया जा रहा है लेकिन भाजपा ने तो आधी आबादी को ही अपना जनाधार मान कर उस पर काम भी शुरू कर दिया है। जिसके तहत यूपी चुनावों में आधी आबादी को साधने के लिए पीएम नरेन्द्र मोदी व सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ-साथ 9 देवियों को चुनावी जिम्मेदारी सौंपी गई है। भाजपा की ये 9 देवियां कोई अलग नही है बल्कि इनमें सपा व कांग्रेस से आये हुए अधिकतर चेहरे है।
                  उत्तर-प्रदेश में लॉ एंड आर्डर और महिला सुरक्षा, हमेशा से एक बड़ा मुद्दा रहा है। विधानसभा चुनाव 2022 में भी पार्टियों के एजेंडा इससे अछूते नहीं है। अब सत्ता में रही भाजपा लोगों को मजबूत महिला चेहरों की मदद से ये भरोसा दिलाना चाहती हैं कि उन्होंने 2017 में महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने का वादा किया था। उसे पूरा भी किया है।
                  यूपी के हर घर तक ये संदेश पहुंचाने की रणनीति तैयार की गई है। समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, बसपा समेत पॉलिटिकल पार्टियों की घेराबंदी का जवाब देने के लिए भाजपा ने मृगांका सिंह, रिया शाक्य, अंजुला माहौर, प्रियंका सिंह रावत, अर्चना मिश्रा, अदिति सिंह, अपर्णा यादव, संघमित्रा मौर्य और प्रियंका मौर्य को आगे किया है। आइए आपको बताते हैं कि भाजपा की महिला ब्रिगेड में इन चेहरों को किन-किन जिम्मेदारियों से नवाजा गया है…                 महिला ब्रिगेड डोर-टू-डोर कैंपेन चलाएंगी, ताकि महिलाओं के संपर्क में आकर उन्हें भाजपा के कामों के बारे में बताया जा सके।  प्रियंका गांधी के ’लड़की हूं, लड़ सकती हू’ कैंपेन के खिलाफ भाजपा ने अपर्णा यादव, अदिति सिंह, संघमित्रा मौर्य और प्रियंका मौर्य को कमान सौंपी है।
मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव और भाजपा छोड़ सपा में शामिल हुए स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी और सांसद संघमित्रा मौर्य समाजवादी पार्टी की घेराबंदी करेंगी। उनकी व्यूह रचना को समझने और तोड़ने का काम करेंगी। वहीं कोशिश होगी कि संदेश ये दिया जाए कि इन पार्टियों में ही महिला चेहरे सुरक्षित नहीं हैं। साथ ही प्रियंका गांधी के महिलाओं के लिए 40 फीसदी टिकट में आरक्षण और ’लड़की हूं लड़ सकती हूं’ अभियान की हवा निकालने के लिए इस कैंपेन की पोस्टर गर्ल रही प्रियंका मौर्य और कांग्रेस की विधायक रही अदिति सिंह को जिम्मेदारी दी गई है। अदिति पहले भी कांग्रेस के खिलाफ मुखर रही है, लेकिन प्रियंका मौर्य के लिए ये बड़ी चुनौती होगी। क्योंकि उन्होंने हाल में भाजपा ज्वाइन की है।
                  प्रिंयका सिंह रावत बाराबंकी से 16वीं लोकसभा के लिए चुनी गईं सबसे कम उम्र की सांसद थीं। अब वह पार्टी में सगंठन महामंत्री हैं। पार्टी में महिलाओं को जोड़ने की बड़ी जिम्मेदारी निभा रही हैं। राज्य सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा और सशक्तिकरण के लिए जो योजनाएं बनाई हैं, उनका प्रचार-प्रसार करने की जिम्मेदारी भी प्रियंका को दी गई है। यह काम प्रदेश मंत्री अर्चना मिश्रा भी कर रही हैं। अर्चना भी डोर-टू-डोर कैंपेन चला कर सरकार की योजनाओं की जानकारी महिलाओं को दे रही है। इस दौरान घर की महिलाओं के लिए केंद्र और राज्य सरकार की उपलब्धियों को बताने के साथ ही योगी सरकार में महिलाओं की प्राथमिकताओं की जानकारी भी दी जा रही है।
                  पहले, दूसरे और तीसरे फेज के चुनाव के लिए 25 महिलाओं को टिकट दिया है। पहली सूची में 10 और दूसरी में 15 महिला प्रत्याशी हैं। कुछ तो पहले भी विधायक रहीं हैं। मंत्री भी बनी हैं। पूर्व मंत्री अर्चना पांडेय और निलिमा कटियार के अलावा पार्टी ने कैराना से हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह और बिधूना से विधायक रहे विनय शाक्य की बेटी रिया शाक्य को चुनावी समर में उतारा है।
                  बिधूना से भाजपा विधायक रहें विनय शाक्य पार्टी छोड़ सपा में शामिल हो चुके है। पार्टी ने अब बिधूना से ही उनकी बेटी रिया को मैदान में उतारकर सपा को जवाब दिया है। इतना ही नही पार्टी ने प्रदेश मंत्री अंजुला माहौर को भी चुनावी संग्राम में उतारा है। हाथरस की सुरक्षित सीट से भाजपा ने अंजुला माहौर को प्रत्याशी बनाया कर भी पार्टी ने महिला सशक्तिकरण का संदेश देने की कोशिश की है।

Subscribe to get news in your inbox