एसटीएफ ने नोएडा में अवैध रूप से रह रहे तीन चीनी नागरिक किए गिरफ्तार

स्वामी,मुद्रक एवं प्रमुख संपादक

शिव कुमार यादव

वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी

संपादक

भावना शर्मा

पत्रकार एवं समाजसेवी

प्रबन्धक

Birendra Kumar

बिरेन्द्र कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता एवं आईटी प्रबंधक

Categories

August 2022
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
August 14, 2022

हर ख़बर पर हमारी पकड़

एसटीएफ ने नोएडा में अवैध रूप से रह रहे तीन चीनी नागरिक किए गिरफ्तार

-हवाला, जासूसी और डेटा चोरी से जुड़े हैं चीनी नागरिकों के तार, आरोपियों से बरामद हुए फर्जी भारतीय आधार कार्ड

नोएडा/– चीनी नागरिक भारत में फर्जी तरीके से न केवल रह रहे है बल्कि हवाला, जासूसी व डेटा चोरी जैसे संगीन जुर्मो को भी अंजाम दे रहे हैं। नोएडा एसटीएफ ने शनिवार को हवाला कारोबार से जुड़े तीन चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों से उनके भारतीय फर्जी आधार कार्ड भी बरामद किए हैं। तीनों आरोपी पूर्व में नेपाल बॉर्डर से गिरफ्तार किए गए चीनी नागरिक और उसके दोस्त नटवरलाल के करीबी हैं।

एसएसबी टीम ने जून माह में बिहार के सीतामढ़ी स्थित नेपाल बॉर्डर से चीन के दो नागरिकों लू लैंग और यूं हेलंग को बिना पासपोर्ट-वीजा पकड़ा था। इन दोनों के चीनी जासूस होने का शक था। पूछताछ में सामने आया है कि ये चोरी से 24 जून को भारत की सीमा में दाखिल हुए थे। इसके बाद टैक्सी से नोएडा आए थे। इसके बाद पुलिस ने चीनी नागरिक सुफाई और उसके दोस्त रवि उर्फ नटवरलाल, रवि की मंगेतर ईबीना सहित अन्य को गिरफ्तार किया था। सभी पर आरोप है कि यह भारत में जासूसी कर रहे थे। इसके अलावा हवाला के जरिए चीन में करोड़ों रुपये भेज रहे थे। एसटीएफ ने इस गिरोह से जुड़े तीन और चीनी नागरिकों को शनिवार को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान चेन जुनफेंग, लीयू पेंगफिआई और झांग क्यूशाओ के रूप में हुई है। तीनों सेक्टर-93 के बी ब्लॉक में रह रहे थे।

इस मामले में अभी तक दस चीनी नागरिकों समेत 17 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। नोएडा और ग्रेनो में अवैध रूप से रहने वाले इन चीनी नागरिकों के पूरे खेल का खुलासा बिहार के सीतामढ़ी में 11 जून को पकड़े गए दो चीनी नागरिकों लू लैंग और यू हेलेंग की गिरफ्तारी के बाद मिले इनपुट के बाद हुआ था। ये दोनों बिना पासपोर्ट और वीजा के अवैध रूप से सीमा पार करने का प्रयास कर रहे थे। 13 जून को नोएडा पुलिस ने चीनी नागरिक सुफाई और प्रेमिका पेटेख रेनुआ को गिरफ्तार किया था।

भारतीयों का डाटा चीन भेजा

पूछताछ में खुलासा हुआ है कि आरोपियों ने भारतीय नागरिकों का डाटा अपने देश चीन भेजा है। हालांकि अभी तक यह पता नहीं चला है कि किस उदेश्य से आरोपी भारतीयों का डाटा चीन भेज रहे थे। इसको लेकर केंद्र और राज्य की जांच एजेंसियां गोपनीय स्तर पर जांच कर रही हैं।

नटवरलाल से भी संबंध

चेन जुनफेंग, लीयू पेंगफिआई और झांग क्यूशाओ के सुफाई के दोस्त रवि उर्फ नटवरलाल से भी संबंध थे। आरोपी पिछले काफी समय से नटवरलाल के संपर्क में थे,। पुलिस ने आरोपियों ने उनके अन्य साथियों के बारे में पूछताछ कर रही है। ताकि उनके ठिकानों पर भी छापेमारी की जा सके।

सुफाई से जुड़े थे तार

पूछताछ में खुलासा हुआ है कि तीनों आरोपी पूर्व में गिरफ्तार किए गए चीनी नागरिक सुफाई के करीबी हैं। यह भी सुफाई के साथ हवाला के कारोबार से जुड़े थे। आरोपियों ने पुलिस और अन्य जांच एजेंसियों से बचने के लिए फर्जी भारतीय आधार कार्ड सहित अन्य पहचान पत्र बनवा रखे थे। पुलिस ने इनसे फर्जी आधार कार्ड भी बरामद किए हैं।

महिला मित्र के खाते में मिले थे बिटकॉइन

चीनी गिरोह का पूरा नेटवर्क बड़े स्तर पर हवाला के कारोबार से जुड़ा है। सुफाई की महिला मित्र के अकाउंट में बिटकॉइन मिली थी। हवाला कारोबार से जुड़े पैसे की जानकारी भी पुलिस के हाथ लगी थी। अभी भी जांच एजेंसियों द्वारा हवाला कारोबार और बिटकॉइन करेंसी के मामले की गहनता से जांच की जा रही है।

Subscribe to get news in your inbox